Breaking News
एक मंचन पर आए दिल्ली-एनसीआर के मैथिल संगठन जन्मदिन पर रक्तदान शिविर पुण्य का कार्य: विपुल विश्व प्रसिद्ध बॉस्केटबॉल खिलाड़ी सतनाम सिंह ने किया हेरीटेज ग्लोबल स्कूल का भ्रमण बिजोपुर के सरपंच नासिर खान उच्च शिक्षित आदर्श युवा सरपंच पुरस्कार के लिए चयनित मेगा आई कैंप: एम्स के नेत्र विज्ञान केंद्र के सहयोग से हुई 331 की जांच छठ स्थलों पर सुरक्षा की होगी चाक-चौबंद व्यवस्था दीपावली पूजन के 11 खास बाते : आचार्य गौरव सहाय संगीत अलौकिक दुनिया से रूह को जोड़ती है: मीनू बांगा व्यक्तित्व विकास के जरिए कैंपस से कारपोरेट तक सफर हो सकता है पूरा: डॉ. सुनीति आहूजा युवा सोच व्यवसाय में ला रही नवीनता : राजीव चावला

बृजनट मंडली द्वारा नाटक दो वर्दियां का किया गया मंचन

IMG_0648

फरीदाबाद
गांव के लोगों के लिए नाटकों का मंचन करना एमडी यूनिवर्सिटी के डायरेक्टर यूथ वेलफेयर डॉ जगवीर राठी का ड्रीम प्रोजेक्ट है। इस प्रोजेक्ट की शुरूआत उन्होंने शनिवार शाम फरीदाबाद के गांव महावतपुर से की। फरीदाबाद की संस्था बृजनट मंडली द्वारा आयोजित कार्यक्रम एक शाम पुलिस के नाम में जगवीर राठी ने अपना द्वारा निर्देशित नाटक दो वर्दियां का मचन कर इस प्रोजेक्ट की शुरूआत की। गांव के सरकारी स्कूल में आयोजित इस कार्यक्रम के दौरान गांव महमदपुर के सरपंच के रामसिंह नेताजी ओर केशव भारद्वाज मुख्य अतिथि के रुप में मौजूद थी। विशिष्ठ अतिथि के रुप में उद्योगपति जगत मदान, जिला पार्षद जगत सिंह एडवोकेट के रुप में मौजूद थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता एसीपी क्राइम राजेश चेची ने की।
अपने बीच के लोगों से पड़ता है लडऩा
पुलिस कर्मी की जिंदगी पर आधरित इस हास्य नाटक में यह बताने का प्रयास किया गया कि पुलिस की नौकरी भी बॉर्डर पर तैनात किसी सैनिक से कम नहीं है। फर्क सिर्फ इतना है कि बॉर्डर पर तैनात सैनिकों को अपने दुश्मनों के बारे में जानकारी होती है, तो शहरद के दूसरी तरफ खड़े होते हैं। वहीं पुलिस को अपने दुश्मनों की जानकारी नहीं होती। उन्हें समाज में रहकर ही अपने बीच के ही लोगों से लडऩा पड़ता है। 24 घंटे ड्यूटी करने वाले पुलिस के जवान को खूब मेहनत करने के बाद भी सैनिकों जैसा सम्मान नहीं मिलता। समाज की सेवा करने के बदले उन्हें केवल गालियां ही मिलती हैं। पुलिस व सैनिक दोनों लगभग एक जैसी वर्दियां पहनते हैं और दोनों देश सेवा ही करते हैं, लेकिन फिर भी दोनों में फर्क किया जाता है। नाटक में पुलिस के कामों में होने वाले राजनैतिक हस्ताक्षेप को भी एक अलग ढंग से दिखाया गया। नाटक के निर्देशक जगवीर राठी ने बताया कि गांवों में नाटकों का मंचन करना उनका एक बड़ा सपना है। शहर के सभागारों में तो अक्सर नाटक होते रहते हैं, लेकिन गांवों में इनका मंचन नाम मात्र को है। ऐसे में हमने इस कार्यक्रम के माध्यम से थियेटर इन विल्लेज की शुरूआत की है। यह एक अच्छी परंपरा की शुरूआत है, जो आगे भी जारी रहेगी। बृज नट मंडली के अध्यक्ष बृजमोहन ने बताया कि फरीदाबाद के इतिहास में यह पहली बार है कि इतने बड़े स्तर पर नाटक का मंचन गांव में हुआ हो। अभी तक गांवों में केवल रागिनी, स्वांग और नोटंकी आदि ही होती रही हैं, लेकिन अब हमने नाटकों के मंचन की शुरूआत की है। अब हम आगे भी इस तरह के आयोजन जारी रखेंगे। बृजनट मंडली के वरिष्ठ सलाहकार राजकुमार गोगा ने सभी उपस्थितजनों का आभार व्यक्त किया।
इस दौरान डॉ सुनिल शर्मा ने मंच संचलन किया। मौके पर रवि चौहान नंबरदार, राजपाल राजू, राजेंद्र चौहान, पंडित रामेश्वर भारद्वाज, पंडित एलआर शर्मा, आनंद शर्मा, अनिल बागड़ी, धीरज राणा, विकास गिल, विनोद नरवत आदि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *