Breaking News
क्या आप जानते हैं कि भारत के सबसे ज्यादा अमीर लोग किस शहर में रहते हैं ? गोलीकांड :-हरियाणा के गुरुग्राम बड़ी वारदात पेट्रोल-डीजल की कीमतों में इजाफा हरियाणा के मंत्री ने सिद्धू को पाक जाने की सलाह दी आयुष्मान भारत योजना से स्वस्थ, समृद्ध व खुशहाल होगा देश, दांतों की कई समस्याओं को किया गया है शामिल: श्री अश्विनी चौबे -ग्रामीण इलाके में 15 दिन मुफ्त मेें दांतों के प्रति संवेदनशीलता से संबंधित जागरूकता कार्य करने का पहल सराहनीय शेयर बाजार में लौटी रौनक,732 अंक की तेजी के साथ हुआ बंद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जान से मारने की धमकी ,दिल्ली पुलिस कमिश्नर को भेजा ईमेल केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री श्री अश्विनी कुमार चौबे करेंगे राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्रोफाइल 2018 की विश्लेषणात्मक रिपोर्ट का विमोचन दिल्ली के रिहायशी इलाकों में चल रही फैक्ट्रियों पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला। अगले 48 घंटे के लिये हो सकता है इन्टरनेट ठप्प ?

‘व्यवहार परिवर्तन संचार’ विषय पर विशेषज्ञ व्याख्यान का आयोजन

01 (1)
फरीदाबाद, 18 अप्रैल 2018,
वाईएमसीए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, फरीदाबाद द्वारा पत्रकारिता एवं जनसंचार के विद्यार्थियों के लिए ‘व्यवहार परिवर्तन संचार’ विषय पर एक विशेषज्ञ व्याख्यान का आयोजन किया गया। इस अवसर पर बिरला इंस्टीट्यूट आफ टैक्नोलॉजी, मेसरा, रांची में एसोसिएट प्रोफेसर डॉ सुपर्ना दत्ता मुख्य वक्ता रही तथा विद्यार्थियों को ‘व्यवहार परिवर्तन संचार’ से संबंधित तकनीकी एवं व्यवहारिक जानकारी प्रदान की।
कार्यक्रम का संचालन पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग में सहायक प्रोफेसर अमनदीप कौर ने किया। इस अवसर पर आईटी व कम्प्यूटर एप्लीकेशन्स विभाग के अध्यक्ष प्रो. अतुल मिश्रा, कम्प्यूटर इंजीनियरिंग विभाग के अध्यक्ष प्रो. कोमल कुमार भाटिया तथा प्रो. मंजीत सिंह भी उपस्थित थे।
अपने विशेषज्ञ व्याख्यान में डॉ. दत्ता ने विद्यार्थियों को साकारात्मक व्यवहार को प्रोत्साहित करने में व्यवहार परिवर्तन संचार की भूमिका तथा रणनीति के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि व्यवहार परिवर्तन संचार एक लक्षित समूह के व्यवहार में वांछित परिवर्तन को समझने तथा व्यवहार में बदलाव लाने का एक माध्यम है और यह शिक्षा एवं संचार दोनों के बीच कड़ी का कार्य करता है।
उन्होंने बताया कि व्यवहार परिवर्तन संचार कार्यक्रमों द्वारा प्राप्त ज्ञान एवं कौशल से विद्यार्थी स्वास्थ्य, पोषण, शिक्षा तथा अन्य क्षेत्रों से जुड़े सरकार के प्रमुख कार्यक्रमों से सीधे जुड़ सकते है, बल्कि यह विद्यार्थियों, शिक्षकों, कॉर्पोरेट क्षेत्र में सामाजिक सरोकार के कार्यों करने वालों को देखने वाले, नागरिक सेवाओं से सीधे तौर पर जुड़े अधिकारियों एवं इन सेवाओं के इच्छुक अभियार्थियों के लिए भी लाभदायक है, जिससे वे समाज में बदलाव लाने में अहम भूमिका निभा सकते है।
कार्यक्रम के दौरान बिरला इंस्टीट्यूट आफ टैक्नोलॉजी के नोएडा स्थिति विस्तार केन्द्र के विद्यार्थियों ने व्यवहार परिवर्तन संचार से संबंधित अपने कार्याें तथा अनुभवों को भी साझा किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *