Breaking News
देश को टेक्सटाइल यूनिट में पहला ग्रीन फैक्टरी बिल्डिंग देने वाले युवा उधोगपति अक्षय को मिला पुरस्कार साइकिल पर सवार होकर आला अधिकारियों ने दिया क्लीन ग्रीन व सेफ दिल्ली का संदेश साइकिल की सवारी कर आला अधिकारी दंगे फिट रहने का संदेश शहरवासियों को थिएटर के करीब लाएगा संभार्य फाउंडेशन 12 से 17 जून तक थिएटर महोत्सव रंग लाई पेफी की मुहिम...छात्रों को ऑल सब्जेक्ट के नहीं हेल्थ और फिजिकल एजुकेशन के टीचर ही पढ़ाएंगे फैक्ट्री और आवास के आसपास के क्षेत्रों को उद्योगपति एस एस बांगा ने सुंदर उपवन में कर दिया तब्दील, सेक्टर 58 में 10 हजार पौधे लगाने की तैयारी विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर जागरुकता अभियान मानव रचना के छात्रों ने मार्च निकलकर किया लोगों को जागरूक श्रीराम कथा का छठा दिन: जो आदमी सबको ब्रह्म नहीं समझता, वह स्वयं सबसो बड़े भ्रम में है- बापू युवा कांग्रेस में केशव यादव के अध्यक्ष व श्रीनिवास वेंकटेश के उपाध्यक्ष बनने युवाओं में हुआ है नई ऊर्जा का संचार - तरुण तेवतिया

‘व्यवहार परिवर्तन संचार’ विषय पर विशेषज्ञ व्याख्यान का आयोजन

01 (1)
फरीदाबाद, 18 अप्रैल 2018,
वाईएमसीए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, फरीदाबाद द्वारा पत्रकारिता एवं जनसंचार के विद्यार्थियों के लिए ‘व्यवहार परिवर्तन संचार’ विषय पर एक विशेषज्ञ व्याख्यान का आयोजन किया गया। इस अवसर पर बिरला इंस्टीट्यूट आफ टैक्नोलॉजी, मेसरा, रांची में एसोसिएट प्रोफेसर डॉ सुपर्ना दत्ता मुख्य वक्ता रही तथा विद्यार्थियों को ‘व्यवहार परिवर्तन संचार’ से संबंधित तकनीकी एवं व्यवहारिक जानकारी प्रदान की।
कार्यक्रम का संचालन पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग में सहायक प्रोफेसर अमनदीप कौर ने किया। इस अवसर पर आईटी व कम्प्यूटर एप्लीकेशन्स विभाग के अध्यक्ष प्रो. अतुल मिश्रा, कम्प्यूटर इंजीनियरिंग विभाग के अध्यक्ष प्रो. कोमल कुमार भाटिया तथा प्रो. मंजीत सिंह भी उपस्थित थे।
अपने विशेषज्ञ व्याख्यान में डॉ. दत्ता ने विद्यार्थियों को साकारात्मक व्यवहार को प्रोत्साहित करने में व्यवहार परिवर्तन संचार की भूमिका तथा रणनीति के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि व्यवहार परिवर्तन संचार एक लक्षित समूह के व्यवहार में वांछित परिवर्तन को समझने तथा व्यवहार में बदलाव लाने का एक माध्यम है और यह शिक्षा एवं संचार दोनों के बीच कड़ी का कार्य करता है।
उन्होंने बताया कि व्यवहार परिवर्तन संचार कार्यक्रमों द्वारा प्राप्त ज्ञान एवं कौशल से विद्यार्थी स्वास्थ्य, पोषण, शिक्षा तथा अन्य क्षेत्रों से जुड़े सरकार के प्रमुख कार्यक्रमों से सीधे जुड़ सकते है, बल्कि यह विद्यार्थियों, शिक्षकों, कॉर्पोरेट क्षेत्र में सामाजिक सरोकार के कार्यों करने वालों को देखने वाले, नागरिक सेवाओं से सीधे तौर पर जुड़े अधिकारियों एवं इन सेवाओं के इच्छुक अभियार्थियों के लिए भी लाभदायक है, जिससे वे समाज में बदलाव लाने में अहम भूमिका निभा सकते है।
कार्यक्रम के दौरान बिरला इंस्टीट्यूट आफ टैक्नोलॉजी के नोएडा स्थिति विस्तार केन्द्र के विद्यार्थियों ने व्यवहार परिवर्तन संचार से संबंधित अपने कार्याें तथा अनुभवों को भी साझा किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *