Breaking News
पुलवामा आतंकी हमला : फरीदाबाद में आक्रोशित लोगों ने निकाली रैली, शहीदों को दी श्रद्धांजलि केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे तारेगना-मसौढ़ी के शहीद के परिवार से मिलने के बाद अमर शहीद रतन के परिवार से मिलने कहलगांव-भागलपुर हुए रवाना पुलवामा में शहीद हुए मसौढ़ी के संजय सिन्हा के परिवार से मिले केंद्रीय राज्य मंत्री श्री अश्विनी चौबे डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय आधी रात को निकल पड़े, पटना के दो थानेदारों पर गिर गई गाज हरियाणा-महाराष्ट्र में माटी और खून का रिश्ता : देवेंद्र फडऩवीस पिता नहीं चाहते थे कि बेटा पढ़ाई करे, महज 21 की उम्र में IAS बन कर रच दिया कीर्तिमान ब्रांड बिहार : कभी बस की छत पर मोतिहारी जाते थे राकेश पांडेय, अब दुनिया को कैंसर से बचा रहे हैं 23 मार्च से भारत में ही होगा आईपीएल प्रधानमंत्री जी जो कहते हैं वह करते हैं: अश्विनी चौबे सरकार की प्राथमिकता सबका साथ सबका विकास कैट का रिजल्ट जारी, टॉप में बिहार से एक छात्र

जानिए डेंगू के लक्षण, बचाव और इलाज

अंकित गौतम की खास रिपोर्ट-
आजकल जिस खबर की सबसे ज्यादा चर्चा है वह है डेंगू (dengue) और चिकुनगुनिया. बहुत से लोग अनजाने में इसके लक्षण पहचानने में काफी देरी कर देते है जिसकी वजह से यह बुखार काफी तेजी से मरीज को अपनी चपेट में ले लेता है.

क्या होता होता डेंगू ?
डेंगू (dengue) एक वायरस से होने वाली बीमारी का नाम है जो एडीज नामक मच्छर की प्रजाति के काटने से होती है. इस मच्छर के काटने पर विषाणु तेजी से मरीज के शरीर में अपना असर दिखाते जिसके कारण तेज बुखार और सर दर्द जैसे लक्षण दिखाई देते है. इसे हड्डी तोड़ “बुखार” या ब्रेक बोन बुखार भी कहा जाता है. डेंगू होने पर मरीज के खून में प्लेटलेट्स की संख्या तेजी से घटती है जिसके कारण कई बार जान का जोखिम भी बन जाता है.डेंगू (dengue) एक इंसान से दुसरे इंसान को नहीं फैलता. ये केवल मच्छर के काटने से ही होता है.low-platelets-633x319

डेंगू के लक्षण
*तेज ठंड और बुखार
*कमर, मांसपेशियों, जोड़ों और सिर में तेज दर्द
*हल्की खाँसी, गले में दर्द और खराश
*शरीर पर लाल-लाल दाने(रैश) दिखाई देता है.
*थकावट, भूख न लगना और कमजोरी
*उलटी और दर्द

कैसे पता करे की डेंगू हुआ है या नहीं
गर ऊपर दिए गए लक्षणों में से कोई लक्षण दिखाई दे तो तुरंत डॉक्टर क पास जाये. डेंगू (dengue) की जाचं के लिए एनएस 1 टेस्ट किया जाता है जिसके आधार पर डॉक्टर तय करते है की मरीज़ को डेंगू हुआ है या नहीं.

डेंगू का इलाज़

-रोगी को ज्यादा से ज्यादा तरल चीजे दीजिये ताकि उसके शरीर में पानी की कमी न हो

-मरीज को पीपते के पत्ते पानी में या पीस कर दिए जा सकते है . यह शरीर में प्लेटलेट्स (platelets) बढाने का काम करते है लेकिन देने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरुर ले

-मरीज को डिस्प्रीन और एस्प्रीन की गोली कभी ना दें

-बुखार कम करने के लिए पेरासिटामॉल की गोली दी जा सकती है

-जितना हो सके नारियल पानी और जूस पिलाये.

कैसे करे डेंगू से बचाव

-डेंगू का घर साफ़ पानी है इसलिए घर में या आस पास पानी २-३ दिन से ज्यादा न जमा होने दे. कूलरो में मिट्टी के तेल का छिडकाव करे. 1-2 दिन बाद घडो और बाल्टियों में जमा पानी को हटाते रहे.

-अगर बुखार घर में ठीक न हो रहा हो तो एक बार जांच जरुर करवाए

-जितना हो सके बच्चो को पूरी बाजू के कपडे पहेनाये

-घर और गली में कीटनाशक का छिडकाव जरुर करवाए

-जितना हो सके इस मौसम में घर की खिडकियों को बंद करके रखे

-कूड़े के डिब्बे म कूड़ा न जमा होने दे

चाणक्यलाइव न्यूज़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *