Breaking News
पुलवामा आतंकी हमला : फरीदाबाद में आक्रोशित लोगों ने निकाली रैली, शहीदों को दी श्रद्धांजलि केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे तारेगना-मसौढ़ी के शहीद के परिवार से मिलने के बाद अमर शहीद रतन के परिवार से मिलने कहलगांव-भागलपुर हुए रवाना पुलवामा में शहीद हुए मसौढ़ी के संजय सिन्हा के परिवार से मिले केंद्रीय राज्य मंत्री श्री अश्विनी चौबे डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय आधी रात को निकल पड़े, पटना के दो थानेदारों पर गिर गई गाज हरियाणा-महाराष्ट्र में माटी और खून का रिश्ता : देवेंद्र फडऩवीस पिता नहीं चाहते थे कि बेटा पढ़ाई करे, महज 21 की उम्र में IAS बन कर रच दिया कीर्तिमान ब्रांड बिहार : कभी बस की छत पर मोतिहारी जाते थे राकेश पांडेय, अब दुनिया को कैंसर से बचा रहे हैं 23 मार्च से भारत में ही होगा आईपीएल प्रधानमंत्री जी जो कहते हैं वह करते हैं: अश्विनी चौबे सरकार की प्राथमिकता सबका साथ सबका विकास कैट का रिजल्ट जारी, टॉप में बिहार से एक छात्र

क्या आप जानते हैं की ये समस्याएं हो सकती है आपको अगर आप जूझ रहे हैं इस विटामिन की कमी से

अगर आपको अच्छी सेहत के साथ जिंदगी का लुत्फ उठाना है, तो फिर विटामिन डी के महत्व को समझकर इस विटामिन की अपने शरीर में किसी भी स्थिति में कमी नहीं होने देना है।

बेशक विटामिन डी की कमी एक दम से पकड़ मे नहीं आती परन्तु शरीर को नुक्सान देती है , जिनका जिक्र आज हम करेंगे

 

vitamin-d-flu-prevention

 

>> विटामिन डी की शरीर मे कमी होने के कारण :–

  • आहार में कैल्शियम की कमी होना।
  • लिवर, किडनी और त्वचा के रोग।
  • शराब का काफी समय तक सेवन।
  • जोड़ों के रोगों की वजह से विटामिन डी कम हो सकता है।
  • औद्योगीकरण के फलस्वरूप ऐसी इमारतों में जहां सूर्य की किरणें नहीं पहुंच पाती हैं, उनमें अधिक समय बिताने के कारण व्यक्ति को सूर्य की रोशनी नहीं मिल पाती। नतीजतन, शरीर में विटामिन डी की कमी होने लगती है।
  • वातावरण में प्रदूषण के कारण अल्ट्रावायलेट किरणें त्वचा में विटामिन  डी के जज्ब होने में बाधा डालती हैंं।

>> विटामिन डी की कमी से होने वाली शारीरिक समस्याएं :–

  • विटामिन डी की कमी के कारण हाई ब्लड प्रेशर, हृदय रोग और दिल का दौरा पड़ने की आशंकाएं बढ़ जाती हैं।
  • विटामिन डी शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा देती है।
  • मांसपेशियों में दर्द और जकड़न महसूस करना।
  • हाई ब्लड प्रेशर की समस्या।
  • अनिद्रा और थकान की समस्या।
  • कार्यक्षमता में कमी।

>> बचाव इलाज से उत्तम है :–

  • यह बात विटामिन डी की कमी पर पूर्ण रूप से लागू होती है।
  • विटामिन डी और कैल्शियम को आहार में वरीयता दें।
  • टूना और सॉल्मन मछली, दूध, पनीर और अंडा विटामिन डी के स्रोत हैं।
  • सुबह के वक्त 15 से 20 मिनट धूप में घूमें, जिससे विटामिन डी बन सके।
  • विटामिन डी की मात्रा का परीक्षण करवाएं। यदि 20 एनएमएम से कम है तो विटामिन डी का कैप्सूल डॉक्टर के परामर्श से लें।
  • जीवन शैली को नियंत्रित करें।

>> याद रखें, आचार-विचार और आहार-विहार स्वस्थ जीवन के आधार हैं। स्वास्थ्यकर जीवनशैली पर अमल कर विटामिन डी की कमी से अपना बचाव कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *