Breaking News
रंग लाया केंद्रीय राज्य मंत्री श्री चौबे का प्रयास चौसा पावर प्लांट की मिली कैबिनेट की मंजूरी, प्रधानमंत्री व ऊर्जा मंत्री का जताया आभार, लंबे समय से कर रहे थे अथक प्रयास महाशिवरात्रि पर बन रहा उत्तम संयोग, होगा महाकल्याणकारी परम प्रेममय श्री श्री ठाकुर अनुकूलचंद्र जी का 131वां पावन जन्म महोत्सव का भव्य समारोह का आयोजन शेल्टर होम से गायब हुईं 7 लड़कियां, तेजस्वी ने कहा- SC की मॉनिटरिंग के बावजूद ये दु:साहस कौन कर रहा है?.... श्री श्री ठाकुर अनुकूल चंद्र जी की 131वां पावन जन्म महोत्सव पर भव्य समारोह का आयोजन पुलवामा आतंकी हमला : फरीदाबाद में आक्रोशित लोगों ने निकाली रैली, शहीदों को दी श्रद्धांजलि केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे तारेगना-मसौढ़ी के शहीद के परिवार से मिलने के बाद अमर शहीद रतन के परिवार से मिलने कहलगांव-भागलपुर हुए रवाना पुलवामा में शहीद हुए मसौढ़ी के संजय सिन्हा के परिवार से मिले केंद्रीय राज्य मंत्री श्री अश्विनी चौबे डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय आधी रात को निकल पड़े, पटना के दो थानेदारों पर गिर गई गाज हरियाणा-महाराष्ट्र में माटी और खून का रिश्ता : देवेंद्र फडऩवीस

महाशिवरात्रि पर बन रहा उत्तम संयोग, होगा महाकल्याणकारी

चाणक्य डेस्क, मुजफ्फरपुर : शिवोपासना का महापर्व महाशिवरात्रि इस बार उत्तम संयोगों के साथ आ रहा है। प्रदोषयुक्त शिवरात्रि में दिन-रात श्रवण नक्षत्र के साथ कई महत्वपूर्ण योग बन रहे हैं । एेसे संयोग में शिव की उपासना सर्वकल्याणकारी मानी जाती है।


बाबा गरीबनाथ मंदिर के प्रधान पुजारी पंडित विनय पाठक बताते हैं कि प्रदोषयुक्त शिवरात्रि में श्रवण नक्षत्र होगा। एेसे संयोग में शिव की उपासना सर्वकल्याणकारी मानी जाती है।इस वर्ष महाशिवरात्रि 4 मार्च को है। मान्यता है कि महाशिवरात्रि के दिन ही भगवान शिव पार्वती का विवाह हुआ था। हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार इस दिन सभी आध्यात्मिक शक्तियां जागृत हो जाती हैं और विधि अनुसार व्रत और पूजा करने से पुण्य प्राप्त होता है।

शिवरात्रि का व्रत रात में और भी सिद्धकारी माना गया है ! रात में शिव आराधना, ध्यान, योग, तप और साधना में करने से शिव की कृपा प्राप्त होती है। इस महाशिवरात्रि पर कई दुर्लभ संयोग बन रहे हैं जिसके चलते महाशिवरात्रि का महत्व और भी अधिक बढ़ गया है। जानते हैं इस बार बन रहे दुर्लभ संयोग के बारे में…

सोमवार के दिन महाशिवरात्रि : महाशिवरात्रि का पहला दुर्लभ संयोग है कि यह सोमवार के दिन है। यह भगवान शिव का दिन माना जाता है। इस दिन शिवरात्रि का व्रत रखने वाले अविवाहितों का जल्द विवाह हो जाता है। इस दिन शिवजी का अभिषेक पंचामृत से करें तो अविवाहितों के विवाह का योग बनता है।

श्रवण नक्षत्र का संयोग : दूसरा दुर्लभ संयोग यह है कि शिवरात्रि तिथि के अनुसार सर्वश्रेष्ठ ‘श्रवण नक्षत्र’ का संयोग बना है। चन्द्रमा इस नक्षत्र के स्वामी हैं और भगवन शिव के सिर पर विराजमान हैं ! इस नक्षत्र में धन, वैभव, सुख और समृद्धि के लिए शिवलिंग का अभिषेक गन्ने के रस से करना चाहिए।

बन रहा शिव योग : इस साल महाशिवरात्रि के दिन ‘शिव योग’ बन रहा है। शिव योग में शिव पूजा करने से पुण्य प्राप्त होता है। शिवलिंग की पूजा में केसर युक्त दूध से शिव का अभिषेक करने से नौकरी में सफलता का योग बनता है और घर में सुख समृद्धि आती है।अभिषेक के बाद शिवजी को भोग में खीर अर्पित करने से आत्मा को शांति, पितरों को शांति और नव गृह शांति के योग बनते हैं।

सर्वार्थसिद्धि योग का संयोग : चौथा दुर्लभ संयोग है कि महाशिवरात्रि पर योगों में महायोग कहे जाने वाले सर्वार्थसिद्धि योग बन रहा है। सर्वार्थसिद्धि को सर्वसिद्धि योग भी कहा जाता है, इस योग में शिवरात्रि का व्रत भी है जिससे महाशिवरात्रि का महत्व कई गुना बढ़ गया है। सर्वार्थ सिद्धि में शिवरात्रि पर  शिवतांडव स्तोत्र या शिव सहस्रनाम का पाठ करने से अकाल मृत्यु का भय नहीं रहता और इस योग में रुद्राभिषेक करने से आरोग्यता प्राप्त होती है! और जीवन में आने वाली सभी बाधाओं से मुक्ति मिलती है और आपके सभी कार्य सफल होते हैं।

घनिष्ठा नक्षत्र का संयोग : पांचवा दुर्लभ संयोग ये है कि शिवरात्रि का व्रत ‘धनिष्ठा नक्षत्र’ में है। वैदिक ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार ‘धनिष्ठा नक्षत्र’ में महाशिवरात्रि पूजाविधि अनुसार करने से रंक भी राजा बन जाता है।  27 नक्षत्रों में से 23वां ‘धनिष्ठा नक्षत्र’ का स्वामी मंगल और देवता वसु को माना गया है। ‘इस नक्षत्र में शिवलिंग की पूजा में शहद, लाल चन्दन और गुलाब के इत्र से पूजा करना शुभ फलदायी माना गया है! इनसे भगवान शिव का अभिषेक करने से गरीब भी धनवान बन जाता है!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *